Wednesday, June 7, 2017

ऐसा भी होता है !

रसायनशास्त्र की प्रयोगशाला में अचानक ही अध्यापिका ने बारी-बारी से हरेक को बुलाकर viva लेना शुरू कर दिया | धीरे-धीरे मेरा नंबर भी आया |
" gun powder के क्या क्या components होते हैं ?" अध्यापिका ने एकदम प्रश्न दाग दिया | मुझे कुछ पक्का याद नहीं था | मैं चुप !
 फिर से अध्यापिका ने कहा ,"जल्दी बताओ | याद नहीं है क्या ?"
मेरे मन में पता नहीं कहाँ से , कभी पहले का सुना हुआ एक गाना गूंजने लगा " शोरा शोर करे ; गंधक जोर करे ; कोयला ले उड़े | "
बस फिर क्या था|  मैंने फटाफट बोलना शुरू किया'" शोरा| "
शोरा क्या ?
"जी, पोटेशियम नाइट्रेट |"
"ठीक है|  और?"
"गंधक"
"गंधक क्या ?"
"जी: सल्फ़र |"
"हूँ | और ?"
"जी: कोयला |"
"ठीक है | जब पता था तो इतनी देर क्यूँ लगाई ?"
          ये तो मैं ही जानती थी कि मुझे ठीक से कुछ याद नहीं था पर मन में गूँज रहे, उस गाने ने, उस दिन शामत से बचा लिया | 

No comments:

Post a Comment